ਜਦੋਂ ਕਬਜ਼ਾ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਟਾਇਲਟ ਤੇ ਤੇਜ਼ੀ ਨਾਲ ਟਾਇਲਟ ਕਿਵੇਂ ਜਾਏ

Have a question? Ask in chat with AI!

ਜਦੋਂ ਕਬਜ਼ਾ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਟਾਇਲਟ ਤੇ ਤੇਜ਼ੀ ਨਾਲ ਟਾਇਲਟ ਕਿਵੇਂ ਜਾਏ

ਕੀ ਤੁਸੀਂ ਵੀ ਉਨ੍ਹਾਂ ਲੋਕਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ ਹੋ ਜੋ ਕਬਜ਼ ਦੀ ਸਮੱਸਿਆ ਤੋਂ ਪਰੇਸ਼ਾਨ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ? ਜੇ ਹਾਂ, ਤਾਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਹ ਜਾਣ ਕੇ ਖੁਸ਼ੀ ਹੋਵੇਗੀ ਕਿ ਤੁਹਾਡੀ ਇਸ ਸਮੱਸਿਆ ਦਾ ਹੱਲ ਬਹੁਤ ਆਸਾਨ ਹੈ। ਇੱਥੇ ਅਸੀਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਕੁਝ ਅਜਿਹੇ ਘਰੇਲੂ ਨੁਸਖਿਆਂ ਬਾਰੇ ਦੱਸਣ ਜਾ ਰਹੇ ਹਾਂ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਮਦਦ ਨਾਲ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੀ ਕਬਜ਼ ਦੀ ਸਮੱਸਿਆ ਨੂੰ ਦੂਰ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹੋ।

ਕਬਜ਼ ਕਿਵੇਂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ?

ਕਬਜ਼ ਉਦੋਂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੀਆਂ ਅੰਤੜੀਆਂ ਨੂੰ ਖਾਲੀ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਮੁਸ਼ਕਿਲ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦੇ ਹੋ। ਇਸ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੈ ਕਿ ਤੁਹਾਡੀਆਂ ਅੰਤੜੀਆਂ ਸਹੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਕੰਮ ਨਹੀਂ ਕਰ ਰਹੀਆਂ ਹਨ। ਕਬਜ਼ ਦੇ ਕਈ ਕਾਰਨ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ, ਜਿਵੇਂ ਕਿ:

* ਪਾਣੀ ਦੀ ਘਾਟ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਪਾਣੀ ਘੱਟ ਪੀਂਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਤੁਹਾਡੀਆਂ ਅੰਤੜੀਆਂ ਸਖਤ ਹੋ ਜਾਣਗੀਆਂ ਅਤੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਕਬਜ਼ ਹੋ ਜਾਵੇਗੀ।
* ਫਾਈਬਰ ਦੀ ਘਾਟ: ਫਾਈਬਰ ਇੱਕ ਅਜਿਹਾ ਤੱਤ ਹੈ ਜੋ ਤੁਹਾਡੀਆਂ ਅੰਤੜੀਆਂ को साफ रखता है। अगर आप फाइबर कम खाते हैं, तो आपकी आंतों में मल जमा हो जाएगा और आपको कब्ज हो जाएगी।
* ਰੀढ़ की हड्डी में चोट: अगर आपकी रीढ़ की हड्डी में चोट लगी है, तो आपकी आंतों ठीक से काम नहीं कर पाएंगी और आपको कब्ज हो जाएगी।
* दवाइयां: कुछ दवाइयां जैसे कि दर्द निवारक दवाएं, एंटीडिप्रेसेंट दवाएं और एंटीहिस्टामाइन दवाएं कब्ज का कारण बन सकती हैं।
* गर्भधारण: गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कब्ज की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान शरीर में हार्मोनल परिवर्तन होते हैं, जिससे आंतों की गति धीमी हो जाती है।

कबज़ से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय:

* ਗਰਮ ਪਾਣੀ: गर्म पानी पीने से आपकी आंतों को साफ करने में मदद मिलेगी और आपकी कब्ज की समस्या दूर हो जाएगी।
* पुदीना: पुदीना एक ऐसा जड़ी-बूटी है जो कब्ज की समस्या को दूर करने में बहुत मददगार है। इसके लिए आप पुदीने की चाय पी सकते हैं या फिर पुदीने का रस निकालकर पी सकते हैं।
* अलसी के बीज: अलसी के बीज में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है, जो कब्ज की समस्या को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए आप अलसी के बीज को पानी में भिगोकर रात भर के लिए छोड़ दें और सुबह खाली पेट पी लें।
* त्रिफला: त्रिफला एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्खा है जो कब्ज की समस्या को दूर करने में बहुत मददगार है। इसके लिए आप त्रिफला चूर्ण को रात को सोने से पहले दूध के साथ लें।
* अंजीर: अंजीर में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है, जो कब्ज की समस्या को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए आप अंजीर को रात भर पानी में भिगोकर रख दें और सुबह खाली पेट खा लें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

1. कब्ज़ होने पर क्या खाना चाहिए?

कब्ज़ होने पर आपको उन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनमें फाइबर की मात्रा अधिक हो। जैसे कि फल, सब्जियां, साबुत अनाज और दालें।

2. कब्ज़ होने पर क्या नहीं खाना चाहिए?

कब्ज़ होने पर आपको उन खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए जिनमें फाइबर की मात्रा कम हो। जैसे कि मैदा, चीनी, नमक और तेल।

3. कब्ज़ होने पर कौन सी दवा लेनी चाहिए?

कब्ज़ होने पर आपको डॉक्टर की सलाह से दवा लेनी चाहिए।

4. कब्ज़ होने पर कौन से व्यायाम करने चाहिए?

कब्ज़ होने पर आपको ऐसे व्यायाम करने चाहिए जिनसे आपकी आंतों की गति तेज हो। जैसे कि पैदल चलना, दौड़ना, साइकिल चलाना और तैराकी।

5. कब्ज़ होने पर कौन से योगासन करने चाहिए?

कब्ज़ होने पर आपको ऐसे योगासन करने चाहिए जिनसे आपकी आंतों की गति तेज हो। जैसे कि भुजंगासन, शलभासन और पवनमुक्तासन।


Добавить комментарий

Ваш адрес email не будет опубликован. Обязательные поля помечены *

Предыдущая запись JAKA JEST RÓŻNICA MIĘDZY AMERYKĄ POŁUDNIOWĄ A AFRYKĄ?
Следующая запись ЩО БУДЕ ЯКЩО З’ЇСТИ ЛОЖКУ СОЛІ